Articles

Ayurvedic Treatment of Herpes

by Bhagwati Ayurved Doctor


हर्पीस एक दीर्घकालिक समस्या है। हालांकि, बहुत से लोगों में वायरस मौजूद होने के बाद भी लक्षण नहीं होते हैं। इसके लक्षणों में फफोले, अल्सर, पेशाब होने पर दर्द, मुंह के छाले और योनि स्राव शामिल हैं।
हर्पीज़ सिम्प्लेक्स वायरस (एचएसवी) संक्रमण दो प्रकार के होते है
1. हर्पीज़ टाइप 1 (एचएसवी-1, या मौखिक हर्पीज)
इसमें मुंह और होंठ के आसपास घाव बनाता है। कभी-कभी इन्हें "कोल्ड सोर" (Cold Sore) भी कहते हैं।
2. हर्पीज़ टाइप 2 (एचएसवी-2, या जनांग हर्पीज)
एचएसवी -2 में, संक्रमित व्यक्ति के जननांगों या मलाशय के आसपास घाव हो सकता है। हालांकि एचएसवी -2 घाव अन्य स्थानों में भी हो सकता है, ये घाव आमतौर पर कमर के नीचे पाए जाते हैं।

यदि आपको या आपके जानने वाले को इस तरह के लक्षण है तो छिपाने या घबराने की जरुरत नहीं है बल्कि तुरंत डाक्टर से संपर्क करे क्योकि सही समय पर उपचार करके हर्पीस को जड़ से खत्म किया जा सकता है बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है। डॉक्टर से परामर्श व् उपचार के लिए  संपर्क करे @ 08102155655/09798740666
Visit us at www.bhagwatiayurved.com

Connect with us:




About Bhagwati Ayurved Advanced   Doctor

141 connections, 8 recommendations, 470 honor points.
Joined APSense since, September 5th, 2019, From Patna, India.

Created on Jun 15th 2020 00:43. Viewed 64 times.

Comments

No comment, be the first to comment.
Please sign in before you comment.